राजनीती विज्ञान

Studying political science is the need of the hour!

    दिल्ली विश्वविद्यालय में राजनीती विज्ञान विषय,सामाजिक विज्ञान के विषयोंमें से एक है | जहाँ हर साल लगभग 3000 छात्र विश्वविद्यालय में प्रवेश लेते है| यहएक ऐसा विषय है जो तार्किक और तुलनात्मक अध्ययन को बढ़ावा देता है, जिससे राजनीतीविज्ञान का छात्र सैधांतिक एवं व्यवहारिक रूप में गलत व सहीं का फर्क कर पाता है |राजनीतीविज्ञान विषय पढ़कर छात्र कई क्षेत्रो में अपने और समाज के भविष्य को उज्जवल बनासकते है |

    दिल्ली विश्वविद्यालय के अंतर्गत लगभग सभी महाविद्यालयों में राजनीतीविज्ञान विषय पढाया जाता है | इस विषय के 5 शिर्ष महाविद्यालय जैसे--लेडी श्रीरामकॉलेज(एल0एस0आर0), रामजस कॉलेज, एम0 एच0, सेंटस्टीफन कॉलेज, दिल्ली कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स एंड कॉमर्स(डी0सी0ए0सी0) आदि प्रमुख तौर पर है |

     इस विषय के अंतर्गत 20 पेपर पढ़ायें जाते है | जैसे—राजनीती सिद्धांत, भारतीयराजनीती चिंतन, पाश्चात्य राजनितिक दर्शन , तुलनात्मक राजनीती, अंतराष्टीय सम्बन्ध, वैश्विकराजनीती, विदेश निति आदि प्रमुख है | जिसके अंतर्गत दुनिया के सभी विचारो को जैसे—उदारवाद,मार्क्सवाद ,समाजवाद, साम्यवाद ,आदर्शवाद ,यथार्थवाद आदि को पढने ,जानने व सिखनेका मौका मिलता है |

     आज दिल्ली विश्वविद्यालय में राजनीती पढने वाले छात्र देश व दुनिया के तमामप्रमुख क्षेत्र व संस्थाओ (राजनीती ,शोध ,पत्रकारिता ,यू0पी0एस0सी0 आदि) मेंअग्रसर है | राजनीती विज्ञान विषय केवल पढना व सोचना नहीं सिखाता है बल्किव्यवहारिक रूप में जीना भी सिखाता है | इसे पढने और व्यवहारिक तौर पर सिखने कीजरुरत है |